मैं आरोप लगा दूंगा

कांग्रेस उपाध्यक्ष दो-तीन दिन से नए-नए शिगूफे छोड़ रहे हैं। कभी कहते हैं कि मैं कुछ बोलूंगा तो भूचाल आ जाएगा। संसद में मोदीजी बैठ नहीं पाएंगे। अब कहते हैं कि मेरे पास प्रधानमंत्री के खिलाफ भ्रष्टाचार के पक्के सबूत हैं। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि अगर सबूत हैं तो जिम्मेदार एजेंसी को सौंप कर कार्रवाई क्यों नहीं करते हैं, लेकिन उन्होंने आरोपों की गन दाग दी है और उसी से राजनीतिक बवंडर मच गया है। इसके पहले और भी कई नेता एक-दुसरे को लेकर ऐसे ही दावे कर चुके हैं, जिसमे सभी दल समान रूप से शामिल हैं.. ऐसा लगता है जैसे आरोप लगाना नेताओ का राष्ट्रीय चरित्र बन गया है.. और यह धीरे धीरे आगे बढ़ रहा है. यदि यही हाल रहा तो बाकि जिंदगी के बाकि मसले भी आरोपों की धार पर आ सकते है… तब देश में क्या-क्या हो सकता है। मुलाहिजा फरमाएं…

प्लेन हाईजैक
मुंबई से दिल्ली जाने वाली फ्लाइट अपने शेड्यूल्ड टाइम पर थी। सारे यात्रियों की अच्छे से जांच-पड़ताल की जा चुकी थी। उनके लगैज भी स्कैन कर लिए गए थे। जांच की आधुनिक मशीनों की नजर से किसी भी आपत्तिजनक सामान का फ्लाइट में पहुंच पाना असंभव था। सारे यात्री बोर्ड कर चुके थे, फ्लाइट कू्र पहले ही मुस्तैद था। फ्लाइट ने टेक ऑफ किया। 15 मिनट में ही विमान 4 हजार फीट की ऊंचाई पर जा पहुंचा। अचानक दो लोग मुंह पर कपड़ा बांधकर खड़े हुए। सारे यात्रियों में दहशत फैल गई। दोनों बदमाश जोर से चिल्लाए कोई अपनी जगह से नहीं हिलेगा, वरना मैं अभी आरोप लगा दूंगा। मेरे पास ढेर सारे आरोप हैं, मैं किसी को भी नहीं छोडूंगा। सारे के सारे थर्र-थर्र कांपने लगे। फ्लाइट हाईजैक हो गई। हाईजैकर्स के साथ वरिष्ठ अफसरों की बात चल रही है। रक्षा मंत्रालय की ओर बयान जारी किया गया है कि सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है, किसी भी यात्री पर आंच नहीं आने दी जाएगी और उन्हें बिना आरोप के मुक्त करा लिया जाएगा। हाईजैकर्स को समझाने के लिए विशेषज्ञों की टीम लगाई गई है।

देश के दिल में आतंकी हमला
दिल्ली में पालिका प्लाजा के पास रोज की तरह भारी भीड़ थी। खरीदारी के लिए लोगों का मेला लगा हुआ था। मार्केट की तरफ से लोगों को सुरक्षा हिदायतें दी जा रही थीं। वहीं बाहर दिल्ली पुलिस भी तैनात थी। अचानक चार-पांच लडक़े मुख्य डोम के बीच में आकर खड़े हो गए और जोर से चीखे, जो जहां खड़ा है, वहीं हाथ ऊपर करके चुपचाप खड़ा हो जाए। वरना हमारे पास सबके लिए आरोपों का पुलिंदा है, एक भी आदमी मार्केट में से बचकर नहीं जा सकेगा। सारे लोग स्तब्ध रह गए। आतंकियों ने धड़ाधड़ उन पर आरोप बरसाने शुरू कर दिए, लोग वहीं ढेर होते गए। हालांकि कुछ ही देर में दिल्ली पुलिस और सेना के जवान मौके पर पहुंचे और आतंकियों पर काबू कर लिया गया। रक्षा मंत्रालय ने इसे बड़ी सुरक्षा चूक माना है कि आखिर इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आतंकी खुलेआम आरोप लेकर वहां पहुंच कैसे गए।

बुजुर्ग दंपती से लूट
इंदौर के नेहरू पार्क से शाम 7.30 बजे बुजुर्ग दंपती रीगल की ओर जा रहे थे। इस बीच बीएसएनएल ऑफिस के सामने दो बदमाशों ने उन्हें रोक लिया। उनसे कहा कि जो कुछ आपके पास है, वह हमारे हवाले कर दो, वरना आप पर ढेर सारे आरोप लाद देंगे। बुजुर्ग दंपती की घिग्घी बन गई और वे वहीं गश खाकर गिर पड़े। बदमाश उनका सारा माल-मत्ता लेकर फरार हो गए। जाते-जाते धमकी देकर गए कि अगर किसी ने हमारा पीछा करने की कोशिश की तो उस पर भी आरोपों की झड़ी लगा देंगे। इतना सुनते ही आसपास के लोग सहम गए और जब तक बदमाश आंखों से ओझल नहीं हो गए, कोई अपनी जगह से हिलने की हिम्मत भी नहीं जुटा पाया। बताया जा रहा है कि दंपती सरकारी नौकरी से रिटायर हुए थे और दोनों पर पहले ही कई आरोप लग चुके थे। ऐसी स्थिति में वे और नए आरोप सहने लायक नहीं बचे थे। 15 मिनट बाद लोग पानी छिडक़ कर किसी तरह उन्हें होश में लाए और ऑटो से घर पहुंचाया।

पुलिस कंट्रोल रूम वायरलैस सूचना
हैलो, कंट्रोल टू, टीआई कोतवाली, जल्दी से रावजी बाजार गली नंबर तीन पहुंचे। वहां बड़ा झमेला खड़ा हो गया है। गाड़ी टकराने की बात पर दो लोगों में विवाद हो गया है। मामूली कहासुनी से शुरू हुई बात आरोप लगाने तक जा पहुंची है। दोनों ही पक्ष एक-दूसरे पर जमकर आरोप लगा रहे हैं। जिससे आसपास का माहौल तनावपूर्ण हो गया है। स्थिति किसी भी समय बिगड़ सकती है और मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर आरोपों की यह झड़ी नहीं रोकी गई तो वहां भूचाल भी आ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.