चार मकोड़े

वे चार मकोड़े थे। स्कूल के बाजू वाली सडक़ के किनारे पर टहल रहे थे। कोई इधर जाता, कोई उधर जाता। थोड़ी दौड़ लगाता, फिर रुक जाता। सारे लौटकर आते, …

चार मकोड़े Read More